500 + Kabir ke Dohe (with meaning ) /कबीर के दोहे (अर्थ सहित) in Hindi & English

कबीर महान क्रांतिकारी संत थें। उन्होंने अपने लगभग 800 दोहों में जीवन के अनेक पक्षों पर
अपने अनुभवों का जीवंत वर्णन किया है। सभी धर्मों , पंथों , वर्गों में प्रचलित कुरीतियों पर उन्होंने मर्मस्पर्शी प्रहार किया है तथा धर्म के वास्तविक स्वरुप को उजागर किया हैं। इसी कारण उनके दोहे आज भी जीवंत एवं प्रभावोत्पादक हैं।

कबीर के 500+ दोहे निम्नांकित 29 खंडों में पठनीय हैं।

Kabir was a great revolutionary saint. He has given a lively description of his personal experiences on many aspects of life in about 800 couplets or dohas.

In his dohas, Kabir challenged the ongoing practices of all religions, sects and castes. His dohas provide a clear and true vision of spirituality. Even after centuries, his couplets are read by the seekers from across the globe.

Presented below is a list of more than 500 dohas by Kabir, grouped in the following 29 categories.

  1. अनुभव/experience
  2. काल/Death
  3. माया/Illusion
  4. नारी/Women
  5. सेवक/Servant
  6. Alms/भिक्षा
  7. वेश/garb
  8. Chain/बन्धन
  9. Warning/चेतावनी
  10. Speech/वाणी
  11. Giving/परमार्थ
  12. Bravery/वीरता
  13. Devotee/भक्त
  14. Company/संगति
  15. Advice/सलाह
  16. Mind/मन
  17. Delusion/मोह
  18. Greed/लोभ
  19. Examiner/पारखी
  20. Separation/विरह
  21. Love/प्रेम
  22. Scholar/ज्ञानी
  23. Faith/विश्वास
  24. Omnipotent God/सर्वव्यापक ईश्वर
  25. Remembrance/ईश्वर स्मरण
  26. Search/तलाश
  27. Anger/क्रोध
  28. Wisdom/बुद्धि
  29. Saints/संतजन